भारत बंद: हिंसा में 14 लोगों की मौत, 2 ने एंबुलेंस में ही तोड़ा दम !

Bharat Bandh Protesters Stopped
Bharat Bandh Protesters Stopped

एससी-एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दलितों का सोमवार को भारत बंद का असर देश के 12 राज्यों में देखा गया। इनमें से उन राज्यों में सबसे ज्यादा हिंसा और प्रदर्शन देखने को मिला, जहां इस साल के आखिर में चुनाव होने हैं।

इनमें मध्यप्रदेश और राजस्थान शामिल हैं। इनके अलावा पंजाब, बिहार और उत्तर प्रदेश में हिंसक झड़प हुईं। मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा 7, यूपी और बिहार में तीन-तीन, वहीं राजस्थान में एक की मौत हो गई। उधर, पंजाब में बंद के चलते सीबीएसई की परीक्षाएं टाल दी गई हैं। भारतबंद के हिंसक आंदोलन ने आम जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने बिजनौर के गांव बरूकी निवासी बीमार 60 वर्षीय लोकमन की एंबुलेंस को नहीं निकलने दिया। परिजन उसे कंधे पर उठाकर जाम से निकालकर किसी तरह ले गए, लेकिन निजी अस्पताल में जाते ही उसने दम तोड़ दिया।

जिन राज्यों में उग्र प्रदर्शन हुए वहां की 71 लोकसभा सीटें ऐसी हैं, जिन पर एससी/एसटी वोटर असर डालते हैं। देश में एससी/एसटी की आबादी 20 करोड़ और लोकसभा में इस वर्ग से 131 सांसद (एससी के 84 और एसटी के 47) हैं। इस बड़े वर्ग से जुड़े इस मामले से हर दल के हित हैं। इसी वजह से कांग्रेस समेत बड़े विपक्षी दलों ने उसके आंदोलन को समर्थन दिया। भाजपा के सबसे ज्यादा 67 सांसद इसी वर्ग से हैं।

Loading...