इस मंत्रालय के कर्मचारी ऑफिस में देखते थे पॉर्न मूवी: पूर्व केंद्रीय गृह सचिव

Junior Officers Watched Adult Videos
Junior Officers Watched Adult Videos

पूर्व केंद्रीय गृह सचिव जी के पिल्लै ने गृह मंत्रालय से जुड़े कुछ ऐसे चौंकाने वाले खुलासे किये हैं। जिसे सुनकर कोई भी हैरान रह जायेगा। उन्होंने कंप्यूटर नेटवर्क में गड़बड़ी होने पर बोलते हुए कहा है कि, गृह मंत्रालय में कुछ जूनियर कर्मचारी ऑफिस में ही पॉर्न देखते थे और उन्हें डाउनलोड कर लेते थे। जिसकी वजह से कंप्यूटर नेटवर्क में गड़बड़ी होती थी।

अधिकारी देर शाम तक मीटिंग करते थे-

डेटा सिक्योरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पिल्लै ने कहा, जब वो आठ-नौ साल पहले केंद्रीय गृह सचिव थे, तो हर दो महीने में हमें कंप्यूटर गड़बड़ मिलता था। मंत्रालय के सीनियर अधिकारी देर शाम तक मीटिंग करते थे। जिस वजह से जूनियर्स को ऑफिस में रुकना पड़ता था। ऐसे में जूनियर्स इंटरनेट खोलते थे, वे कई तरह की चीजें डाउनलोड करते थे, जिससे ‘मालवेयर’ नाम के वायरस भी डाउनलोड हो जाते थे। इस मामले में मंत्रालय ने भी निर्देश जारी किए थे।

सरकारी वेबसाइटों में गड़बड़ी सामने आई थी-

पिल्लै का बयान उस समय आया है जब कुछ ही दिन पहले कुछ सरकारी वेबसाइटों में संदिग्ध रूप से गड़बड़ी सामने आई थी। हालांकि सरकार ने बाद में कहा था कि ये बेवसाइटें हैक नहीं हुई थी। बल्कि कंप्यूटर के हार्डवेयर में कोई दिक्कत थी। जिसे थोड़ी देर में हल कर लिया गया था। आपको बतादें कि कई वेबसाइट ऐसी होती है जिसको ओपन करने पर उसके साथ वाइरस भी आ जाता है। जिससे सिस्टम में खराबी आ सकती है। और अगर हैक होने की बात करें तो कोई भी आईडी और साईट सेफ नहीं है। आपकी जरा सी गलती पर हैकर्स कुछ भी हैक कर सकते हैं।

अनिवार्य बनाने की सिफारिश-

कैम्ब्रिज एनालिटिका पर पिल्लै ने कहा कि ब्रिटिश कंपनी ने दो साल पहले नई दिल्ली में एक सम्मेलन में उसी सेवा के बारे में एक प्रस्तुति दी थी। किसी ने भी कंपनी पर सवाल नहीं उठाया था। पिल्लै ने कहा कि डीएससीआई ने कंपनियों बोर्डों के लिए साइबर सुरक्षा की समीक्षा करने और तैयारी तैयार करने के लिए अनिवार्य बनाने की सिफारिश की है।

Loading...