कठुआ गैंगरेप केस की सुनवाई आज से, पीड़िता की वकील को मिली धमकी !

Kathua Murder Case Trial Begins today
Kathua Murder Case Trial Begins today

कठुआ मामले को लेकर कठुआ जिला एवं सत्र न्यायालय में क्राइम ब्रांच द्वारा आरोपी बनाए गए 7 लोगाें की पेशी आज होगी। वहीं, बच्ची के परिजनों की तरफ से लड़ रही वकील दीपिका एस राजावत ने धमकियां मिलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि मैं कब तक जिंदा रहूंगी। मेरे साथ दुष्कर्म हो सकता है, मेरी हत्या भी हो सकती है। मुझे कल धमकी मिली थी कि तुम्हें माफ नहीं करेंगे।

जगह-जगह हो रहे है प्रदर्शन-

दूसरी तरफ नाबालिग आरोपी की पेशी 24 अप्रैल को तय हुई है। जम्मू कश्मीर के कठुआ में आठ साल की मासूम के साथ हुए गैंगरेप और उसकी निर्मम हत्या, वहीं उन्नाव में नाबालिग के साथ हुए गैंगरेप की घटनाओं से पूरा देश गुस्से में है। पिछले तीन-चार दिनों से अलग-अलग शहरों में इन घटनाओं के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं। रविवार को दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भी लोगों ने प्रदर्शन किया। इस प्रोटेस्ट में कई छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल हुए हैं। बच्ची के साथ दरिंदगी को लेकर देश के लोग काफी आक्रोशित हैं। लोग मांग कर रहे हैं कि आरोपियों को ऐसी सजा दी जाए ताकि कोई अन्य किसी बच्ची या महिला की आबरू के साथ खिलवाड़ न कर सके।

ये हैं वो आठ आरोपी:-

पहला आरोपी 15 साल का एक नाबालिग लड़का है जिसने अपने दोस्त के साथ मिलकर मासूम का अपहरण किया और उसे मंदिर ले गए। दूसरा आरोपी है 62 साल का सांजी राम, साजी राम को इस पूरे केस का मास्टमाइंड बाताया जा रहा है। खबरों की मानें तो सांजी राम ने अपने भतीजे (15 साल का नाबालिग आरोपी) को इसके लिए उकसाया था। तीसरा आरोपी है स्पेशल पुलिस ऑफिसर दीपक खजुरिया। दीपक वही आरोपी है जिसने बच्ची को मारने से पहले एक बार रेप करने की इच्छा जाहिर की थी और उसके बाद कुछ दिन बंधक बनाकर बच्ची को मार दिया था। चौथा आरोपी है स्पेशल पुलिस ऑफिसर सुरिंदर कुमार। चश्मदीदों ने उसे घटना वाली जगह देखा था। कॉल डेटा रिकॉर्ड में भी उनकी मौजूदगी सामने आई। पांचवा आरोपी है 15 साल के नाबालिग का दोस्त, जिसने मिलकर बच्ची को किडनैप किया और उसे बंधक बनाकर उसका रेप किया था। विशाल जंगोत्रा इस मामले का छठा आरोपी है। विशाल, पूरे घटनाक्रम का मास्टरमाइंड बताए जा रहे सांजी राम का बेटा है। विशाल वही आरोपी है जो मेरठ में रहता है उसे कॉल करके मेरठ से बुलाया गया था। 6 आरोपियों के अलावा दो अन्य पुलिकर्मियों को मामले की जानकारी होने और रिश्वत लेकर इसे रफा-दफा करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। चार्जशीट के अनुसार एसआई आनंद दत्ता और हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज ने सबूत नहीं जुटाए और बच्ची के कपड़े धोकर आरोपियों की मदद करने की कोशिश की। इन सभी आरोपियों ने कई दिनों तक बच्ची को नशीली दवाएं खिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।

Loading...