Home News INDIA IMA ने कहा बाबा रामदेव अपनी अवैध दवा बेचने के लिए एलोपैथी...

IMA ने कहा बाबा रामदेव अपनी अवैध दवा बेचने के लिए एलोपैथी के बारे भ्रम फैला रहे है |

1
725
ima said that Baba Ramdev is spreading illusions about allopathy to sell his illicit drugs
ima said that Baba Ramdev is spreading illusions about allopathy to sell his illicit drugs

IMA ने बाबा रामदेव पर एलोपैथी इलाज के खिलाफ झूठ फैलाने का आरोप लगाया है, डॉक्टर्स की संस्था ने स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर बाबा रामदेव पर मुकदमा चलाने की मांग भी की है, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को लिखे पत्र में IMA ने कहा, ‘सोशल मीडिया पर रामदेव का एक वीडियो वायरल हो रहा है, इसमें बाबा एलोपैथी को बकवास और दिवालिया साइंस कह रहे हैं।’

DRDO द्व्रारा विकसित कोरोना की दवा 2DG का वितरण कल से

IMA ने लिखा है कि इससे पहले कोरोना के लिए बनाई गई अपनी दवा की लॉन्चिंग के दौरान भी रामदेव ने डॉक्टर्स को हत्यारा कहा था, कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री भी मौजूद थे, सभी इस बात को जानते हैं कि बाबा रामदेव और उनके साथी बालकृष्ण बीमार होने पर एलोपैथी इलाज लेते हैं, इसके बाद भी अपनी अवैध दवा को बेचने के लिए वे लगातार एलोपैथी के बारे में भ्रम फैला रहे हैं, इससे एक बड़ी आबादी पर असर पड़ रहा है।

IMA ने लिखा है, ‘बाबा रामदेव ने ये दावा किया है कि रेमडेसिविर, फेवीफ्लू और DGCI से अप्रूव दूसरी ड्रग्स की वजह से लाखों लोगों की मौत हुई है। उन्होंने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) और स्वास्थ्य मंत्री की साख को चुनौती दी है। कोरोना मरीजों के इलाज में रेमडेसिविर के इस्तेमाल की मंजूरी केंद्र की संस्था सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) ने जून-जुलाई 2020 में दी थी। ये भ्रम फैलाने और लाखों लोगों की जान खतरे में डालने के लिए बाबा रामदेव पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए। रामदेव ने फेवीपिराविर को बुखार की दवा बताया था। इससे पता चलता है कि मेडिकल साइंस को लेकर उनका ज्ञान कितना कम है।’

“एक कहानी ऐसी भी : चन्द्रिका योल्मो लामा”

IMA ने यह भी लिखा है कि कोरोना महामारी के चलते देश इस वक्त हेल्थ इमरजेंसी से गुजर रहा है। संक्रमण की वजह से अब तक लाखों लोगों की जान जा चुकी है। डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ सरकार के साथ मिलकर इसे रोकने की कोशिश में लगे हुए हैं। जानलेवा वायरस के खिलाफ डॉक्टर देशभर में आगे आकर लड़ाई लड़ रहे हैं। कोरोना मरीजों को बचाते-बचाते हजारों डॉक्टर संक्रमित हुए हैं। इनमें से 1200 डॉक्टर्स की जान भी गई है।