भारतीय वैरिएंट पर वैक्सीन का प्रभाव अनिश्चित : WHO

भारत में पाया गया कोविड का नया वैरिएंट घातक और अधिक संक्रामक है,यह बात WHO ने इसपे चिंता जताते हुए कहा की इन म्‍यूटेशन पर कोरोना वैक्‍सीन की प्रभावशीलता को लेकर फिलहाल निश्चित तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता |

B.1.617 वेरिएंट भारत में सबसे पहले  अक्‍टूबर में मिला था और अब 44 देशों में यह मिल चुका है. इसकी संक्रमण दर काफी ऊंची है और एंटीबॉडी का असर इस पर काफी कम हैं. 

यह भी पढ़ें

2 से 18 उम्र वालों में किया जाएगा Covaxin का ट्रायल, बच्चों को जल्द ही लगना शुरू हो सकती है वैक्सीन |

WHO के अनुसार,  B.1.17 वेरिएंट ब्रिटेन में पाया गया था और भारत में कहर बरपा रहा B.1.617 के मामलों में हाल के सप्‍ताहों में कुछ कमी देखने में मिली है लेकिन अब B.1.617.1 और B.1.617.2 के रूप में दो और खतरनाक म्‍यूटेशंस सामने आ गए हैं, शुरुआती विश्‍लेषण बताते हैं कि B.1.617.1 और B.1.617.2 वेरिएंट ज्‍यादा तेजी से फैलते हैं, संगठन ने कहा है कि B.1.617 वेरिएंट पर वैक्‍सीन और दवाओं पर प्रभाव के बारे में अभी अनिश्चिततता की स्थिति हैं, डब्‍ल्‍यूएचओ  ने कहा है कि कुछ स्‍टडीज के अनुसार, Pfizer और Moderna वैक्‍सीन का भारत के वैरिएंट्स पर असर काफी कम है |

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles