Murder: बच्चे की चाहत में कॉलगर्ल की हत्या, बाइक से गिरी लाश तो डर से छोड़कर भागे आरोपी

ताजा मामला Madhya Pradesh के ग्वालियर से सामने आ रहा है, जहाँ अंधविश्वास के फेर ने फिर एक निर्दोष की जान ले ली है। बता दें कि ममता भदौरिया और बेटू भदौरिया निवासी मोतीझील, ग्वालियर की शादी को 18 साल बीतने के बाद भी कोई संतान नहीं है। वहीं संतान की चाहत में उन्होंने कई डॉक्टर, हकीम और बाबा आदि का सहारा लिया लेकिन उनके घर में संतान नहीं आ सकी, इसको लेकर उन्होंने अपनी बहन मीरा राजावत से अपनी परेशानी जाहिर की तो मीरा राजावत ने इसी बात को अपने दोस्त नीरज परमार के सामने जाहिर किया।

वहीं बात आगे बढ़ी तो उनके दोस्त नीरज परमार ने बताया कि वह मुरैना सरायछोला के निवासी एक तांत्रिक गिरवर यादव को जानता है, जोकि यह काम तुरंत कर देगा। इसी बीच जब पति-पत्नी व बहन ने तांत्रिक से बातचीत की तो उसने कहा कि जान के बदले एक जान चाहिये होगी, जिस पर यह सब संतान चाहत की लालसा में अंधे होकर इसके लिये तैयार हो गये। वहीं मर्डर-2 मूवी देख इस हत्या का आइडिया लिया गया, जहाँ एक सीरियल किलर कॉलगर्ल को घर बुलाकर उसकी हत्या कर देता है, बस यहीं से इन लोगों ने इसका प्लान तैयार किया और हत्या की घटना को अंजाम दे डाला।

जानकारी के अनुसार युवती की लाश पुलिस को IITM कॉलेज के पास मिली थी, जिसकी खोजबीन पुलिस ने की तो इस लाश की पहचान आरती मिश्रा उर्फ लक्ष्मी मिश्रा के रूप में हुई, जिस पर पुलिस ने उनकी और भी जानकारी की वह कॉलगर्ल निकली। जहाँ आरोपी नीरज और मीरा बाइक पर कॉलगर्ल की लाश को बिठाकर हजीरा तांत्रिक के पास ले जाने के लिये लेकिन वहीं पर बाइक का संतुलन बिगड़ गया और बाइक गिर पड़ी।

इसी दौरान कुछ लोग वहाँ से निकल रहें थे जिस पर लोगों की आवाज सुनकर दोनों ने डर के मारे लाश को वहीं छोड़ दिया था। जानकारी के अनुसार आरोपियों ने इस मामले में यह सोचा था कि लोग धीरे-धीरे इस मामले को भूल जायेंगे लेकिन कॉलगर्ल की कॉल डिटेल्स और CCTV फुटेज ने इस मर्डर मिस्ट्री को सुलझा दिया है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles