Sunday, November 27, 2022

तथाकथिक गौरक्षकों ने मुस्लिम युवक को पीटा, पुलिस ने पीड़ित को किया गिरफ्तार, आरोपी फरार : Uttar Pradesh

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में मीट ट्रांसपोर्ट और बेचने का काम करने वाले एक मुस्लिम युवक शाकिर के साथ कुछ लोगों के समूह ने मारपीट की, इस समूह का नेतृत्व कर रहा शख्स (मनोज ठाकुर) खुद को ‘गौ रक्षक’ बता रहा था, यूपी पुलिस ने पीड़ित के भाई की शिकायत के आधार पर मारपीट करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है|

आरोपियों ने भी पीड़ित मोहम्मद शाकीर के खिलाफ काउंटर केस दर्ज करवाया है, काउंटर केस में ‘जानवर की हत्या करने’, ‘संक्रमण फैलाने की संभावना वाला कार्य करना’ और ‘कोविड लॉकडाउन दिशानिर्देशों का उल्लंघन’ से संबंधित आईपीसी की धाराओं को शामिल किया गया है|

उत्तर प्रदेश पुलिस ने शाकीर को गिरफ्तार किया था, लेकिन उन्हें जेल नहीं भेजा गया, क्योंकि उनके खिलाफ लगाई गई धाराएं जमानती हैं|

Olympic Player सुशील हत्या के आरोप में अपने साथियों समेत Delhi से गिरफ्तार|

जिन लोगों के समूह ने शाकीर के साथ मारपीट की, उनका नेतृत्व करने वाले मनोज ठाकुर को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है|

मुरादाबाद पुलिस प्रमुख प्रभाकर चौधरी ने एक बयान में कहा, ‘हमें एक वीडियो मिला था, जिसमें एक मीट विक्रेता के साथ मारपीट की जा रही है, हमने उस मामले में केस दर्ज कर लिया है, इस मामले में पांच से छह आरोपी हैं, जिनका नाम लिखा गया है, हम लोग उन्हें खोज कर रहे हैं और उन्हें जल्द गिरफ्तार करेंगे|’

पुलिस को दी गई लिखित शिकायत में शाकीर के भाई ने बताया कि जब वह एक स्कूटर पर भैंस का 50 किलो मीट लेकर आ रहा था था कि मनोज ठाकुर और उसके साथियों ने घेर लिया, साथ ही उसमें कहा है कि आरोपियों ने पहले शाकीर से 50 हजार रुपए मांगे थे, उसके बाद उन्होंने उसके साथ मारपीट की. साथ ही पुलिस में जाने की धमकी भी दी|

- Advertisement -

वीडियो में देखा जा सकता है कि शाकीर को ठाकुर और अन्य लोगों ने घेर रखा है, इसके बाद ठाकुर शाकीर को लाठी से तब तक मारता रहता है, जब तक वह जमीन पर नहीं गिर गया|

दवा लेने निकले युवक को थप्पड़ मारने वाले DM को हटाया गया, CM ने मांगी माफ़ी : CHHATTISGARH

इस मामले पर कार्रवाई की मांग करते हुए मुरादाबाद से सांसद एसटी हसन ने बयान जारी करते हुए कहा, ‘मुझे पता चला है कि वह एक फैक्ट्री से मीट लेकर आ रहा था और उसके पास इसकी रसीद भी है. उसके बाद भी उसके साथ मारपीट की गई. मैं कहना चाहता हूं कि गौहत्या के नाम पर यह नफरत रुकनी चाहिए. यह भगवान का शुक्र है कि उस आदमी को जान से नहीं मारा गया.’

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles