अधिकारीयों को PM का निर्देश,ब्लैक फंगस की दवाई दुनिया में जहां भी हो उसे भारत लाएं |

Coronavirus के बाद अब भारत में Black Fungus महामारी का रूप ले चुकी है जिससे निपटने के लिए सरकार युद्ध स्तर पर जुट गई है, इसके इलाज के लिए डॉक्टर लिपोसोमल एंफोटेरेसिरिन बी नाम के इंजेक्शन का उपयोग करते हैं, इस दवा के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने पांच और कंपनियों को इसे बनाने का लाइसेंस दिया है|

सरकारी सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी लगातार इस सिलसिले में अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं, उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि यह दवा दुनिया के जिस भी कोने में भा उपलब्ध हो, उसे तुरंत भारत लाया जाए, उनके निर्देश के बाद दुनिया भर में फैले भारतीय दूतावास अपने-अपने देशों में उपलब्ध इस दवा को भारत भेजने में जुट गए हैं, इस दिशा में किए जा रहे प्रयासों का असर देखने में मिला है, इसके लिए अमेरिका की गलियड साइंसेज नाम की कंपनी से मदद मिली है|

UP में ब्लैक फंगस से निपटने के लिए, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने बचाव और इलाज की प्रभावी व्यवस्था के निर्देश दिये |

सरकारी सूत्रों के मुताबिक गलियड साइंसेज एंबीसॉम को फार्मास्यूटिकल कंपनी मायलन के जरिए भारत भेजने के काम में तेजी ला रही है, अभी तक इसकी 121,000 वायल या शीशियां भारत भेजी जा चुकी हैं, जल्दी ही 85,000 वायल और पहुंचने वाली है| 

Cryptocurrency, इथेरेयम के को-फाउंडर Vitalik ने भारत को डोनेट किए 1 अरब डॉलर के Shiba Inu Coin.

गलियड साइंसेज ने मायलन के जरिए भारत में एंबीसॉम की दस लाख खुराक भेजने का लक्ष्य रखा है, कंपनी ने यह भी कहा है कि दुनिया के अन्य देशों में उपलब्ध इस दवा का स्टॉक हटाया जा रहा है और उसे भारत भेजा जाएगा|

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles