लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान-दीपा कौल CONGRESS INC

पूर्व केंद्रीय मन्त्री शीला कौल की छठवीं पुण्यतिथि पर अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा उनके व्यक्तित्व और विरासत पर वेबिनार आयोजित की गयी।पूर्व केंद्रीय मन्त्री शीला कौल की छठवीं पुण्यतिथि पर अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा उनके व्यक्तित्व और विरासत पर वेबिनार आयोजित की गयी। शीला कौल की बेटी पूर्व मन्त्री उत्तर प्रदेश सरकार दीपा कौल मुख्य अतिथि रहीं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दीपा कौल ने कहा कि शीला जी सौ साल की उम्र तक जीवित रहीं और अंतिम समय तक वो कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने को तत्पर रहती थीं।

उनकी शख्सियत इतनी बड़ी थी कि एक बार अटल बिहारी वाजपेयी ने भी कहा था कि जब तक शीला कौल लखनऊ से चुनाव लड़ती रहेंगी वो वहां से नहीं लड़ेंगे। दीपा कौल ने कहा कि लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान था। नारायण दत्त तिवारी सरकार में मन्त्री रहीं दीपा कौल ने कहा कि कांग्रेस पिछले 136 साल से देश को जोड़ने का काम कर रही है। देश के विभिन्न वर्गों, धर्मों, जातियों, नस्लों, भाषाओं के लोगों के बीच समन्वय बनाना ही देश को एकजुट रखने की शर्त है। इस रास्ते पर बढ़ते रहना ही शीला जी को सच्ची श्रधांजलि होगी। प्रोफेशनल कांग्रेस के उत्तर प्रदेश संयोजक और सेवा निवृत आईएएस अनीस अंसारी ने अलीगढ़ विश्वविधालय के अल्पसंख्यक दर्जे को बरक़ार रखने में शीला कौल के महत्वपूर्ण योगदान पर विस्तार से बात रखी संचालन वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश महासचिव डॉ प्रदीप अरोड़ा ने की। उन्होंने कहा कि नेहरू परिवार का हिस्सा होने के बावजूद उन्होंने लखनऊ के पार्षद पद से अपनी सियासी जीवन की शुरुआत की जो उनके संघर्षशील व्यक्तित्व को रेखांकित करता है।

उन्होंने शीला कौल द्वारा दूसरे देशों में भारत के प्रतिनिधि के बतौर उठाये मुद्दों पर भी रोशनी डाली। वेबिनार की अध्यक्षता अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने की। उन्होंने कहा कि शीला कौल जी का व्यक्तित्व कांग्रेसजनों को प्रेरित करता रहेगा। वेबिनार में एड. आनंद मोहन गुप्ता, उत्तराखंड के पूर्व राज्य मंत्री फुरकान अली, उत्तराखंड के पूर्व मन्त्री आबिद हुसैन, जमाल अहमद, अमरोहा से अली हुसैन नक़वी,मेरठ से डॉक्टर ओ पी शर्मा, संजय शर्मा ऐड, मुकेश शर्मा, उत्तराखंड कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, अलीगढ़ विश्वविधालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष महेंद्र रावत, कांग्रेस प्रदेश संगठन सचिव संजीव शर्मा, वसी अहमद रिज़वी, सेराज वली खान, शाद सिद्दीकी, खालिद मोहम्मद, मोहम्मद अहमद, किताबुल्ला अंसारी, अजय सारस्वत, मिथुन त्यागी, देवेंन्द्र गोएल नेता व्यापार संघ मेरठ, साइमन फारूकी, सलमान कादिर, मेराज वली खान, श्रेया चौधरी, सुधांशु उपाध्याय, हुमायूं बेग, ताहिर अंसारी आदि उपस्थित रहे।पूर्व केंद्रीय मन्त्री शीला कौल की छठवीं पुण्यतिथि पर अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा उनके व्यक्तित्व और विरासत पर वेबिनार आयोजित की गयी. शीला कौल की बेटी पूर्व मन्त्री उत्तर प्रदेश सरकार दीपा कौल मुख्य अतिथि रहीं।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता दीपा कौल ने कहा कि शीला जी सौ साल की उम्र तक जीवित रहीं और अंतिम समय तक वो कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने को तत्पर रहती थीं। उनकी शख्सियत इतनी बड़ी थी कि एक बार अटल बिहारी वाजपेयी ने भी कहा था कि जब तक शीला कौल लखनऊ से चुनाव लड़ती रहेंगी वो वहां से नहीं लड़ेंगे। दीपा कौल ने कहा कि लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान था। नारायण दत्त तिवारी सरकार में मन्त्री रहीं दीपा कौल ने कहा कि कांग्रेस पिछले 136 साल से देश को जोड़ने का काम कर रही है। देश के विभिन्न वर्गों, धर्मों, जातियों, नस्लों, भाषाओं के लोगों के बीच समन्वय बनाना ही देश को एकजुट रखने की शर्त है। इस रास्ते पर बढ़ते रहना ही शीला जी को सच्ची श्रधांजलि होगी। प्रोफेशनल कांग्रेस के उत्तर प्रदेश संयोजक और सेवा निवृत आईएएस अनीस अंसारी ने अलीगढ़ विश्वविधालय के अल्पसंख्यक दर्जे को बरक़ार रखने में शीला कौल के महत्वपूर्ण योगदान पर विस्तार से बात रखी संचालन वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश महासचिव डॉ प्रदीप अरोड़ा ने की। उन्होंने कहा कि नेहरू परिवार का हिस्सा होने के बावजूद उन्होंने लखनऊ के पार्षद पद से अपनी सियासी जीवन की शुरुआत की जो उनके संघर्षशील व्यक्तित्व को रेखांकित करता है। उन्होंने शीला कौल द्वारा दूसरे देशों में भारत के प्रतिनिधि के बतौर उठाये मुद्दों पर भी रोशनी डाली।

वेबिनार की अध्यक्षता अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने की। उन्होंने कहा कि शीला कौल जी का व्यक्तित्व कांग्रेसजनों को प्रेरित करता रहेगा। वेबिनार में एड. आनंद मोहन गुप्ता, उत्तराखंड के पूर्व राज्य मंत्री फुरकान अली, उत्तराखंड के पूर्व मन्त्री आबिद हुसैन, जमाल अहमद, अमरोहा से अली हुसैन नक़वी,मेरठ से डॉक्टर ओ पी शर्मा, संजय शर्मा ऐड, मुकेश शर्मा, उत्तराखंड कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, अलीगढ़ विश्वविधालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष महेंद्र रावत, कांग्रेस प्रदेश संगठन सचिव संजीव शर्मा, वसी अहमद रिज़वी, सेराज वली खान, शाद सिद्दीकी, खालिद मोहम्मद, मोहम्मद अहमद, किताबुल्ला अंसारी, अजय सारस्वत, मिथुन त्यागी, देवेंन्द्र गोएल नेता व्यापार संघ मेरठ, साइमन फारूकी, सलमान कादिर, मेराज वली खान, श्रेया चौधरी, सुधांशु उपाध्याय, हुमायूं बेग, ताहिर अंसारी आदि उपस्थित रहे।पूर्व केंद्रीय मन्त्री शीला कौल की छठवीं पुण्यतिथि पर अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा उनके व्यक्तित्व और विरासत पर वेबिनार आयोजित की गयी. शीला कौल की बेटी पूर्व मन्त्री उत्तर प्रदेश सरकार दीपा कौल मुख्य अतिथि रहीं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दीपा कौल ने कहा कि शीला जी सौ साल की उम्र तक जीवित रहीं और अंतिम समय तक वो कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने को तत्पर रहती थीं।

उनकी शख्सियत इतनी बड़ी थी कि एक बार अटल बिहारी वाजपेयी ने भी कहा था कि जब तक शीला कौल लखनऊ से चुनाव लड़ती रहेंगी वो वहां से नहीं लड़ेंगे। दीपा कौल ने कहा कि लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान था। नारायण दत्त तिवारी सरकार में मन्त्री रहीं दीपा कौल ने कहा कि कांग्रेस पिछले 136 साल से देश को जोड़ने का काम कर रही है। देश के विभिन्न वर्गों, धर्मों, जातियों, नस्लों, भाषाओं के लोगों के बीच समन्वय बनाना ही देश को एकजुट रखने की शर्त है। इस रास्ते पर बढ़ते रहना ही शीला जी को सच्ची श्रधांजलि होगी। प्रोफेशनल कांग्रेस के उत्तर प्रदेश संयोजक और सेवा निवृत आईएएस अनीस अंसारी ने अलीगढ़ विश्वविधालय के अल्पसंख्यक दर्जे को बरक़ार रखने में शीला कौल के महत्वपूर्ण योगदान पर विस्तार से बात रखी संचालन वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश महासचिव डॉ प्रदीप अरोड़ा ने की। उन्होंने कहा कि नेहरू परिवार का हिस्सा होने के बावजूद उन्होंने लखनऊ के पार्षद पद से अपनी सियासी जीवन की शुरुआत की जो उनके संघर्षशील व्यक्तित्व को रेखांकित करता है। उन्होंने शीला कौल द्वारा दूसरे देशों में भारत के प्रतिनिधि के बतौर उठाये मुद्दों पर भी रोशनी डाली। वेबिनार की अध्यक्षता अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने की।

उन्होंने कहा कि शीला कौल जी का व्यक्तित्व कांग्रेसजनों को प्रेरित करता रहेगा। वेबिनार में एड. आनंद मोहन गुप्ता, उत्तराखंड के पूर्व राज्य मंत्री फुरकान अली, उत्तराखंड के पूर्व मन्त्री आबिद हुसैन, जमाल अहमद, अमरोहा से अली हुसैन नक़वी,मेरठ से डॉक्टर ओ पी शर्मा, संजय शर्मा ऐड, मुकेश शर्मा, उत्तराखंड कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, अलीगढ़ विश्वविधालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष महेंद्र रावत, कांग्रेस प्रदेश संगठन सचिव संजीव शर्मा, वसी अहमद रिज़वी, सेराज वली खान, शाद सिद्दीकी, खालिद मोहम्मद, मोहम्मद अहमद, किताबुल्ला अंसारी, अजय सारस्वत, मिथुन त्यागी, देवेंन्द्र गोएल नेता व्यापार संघ मेरठ, साइमन फारूकी, सलमान कादिर, मेराज वली खान, श्रेया चौधरी, सुधांशु उपाध्याय, हुमायूं बेग, ताहिर अंसारी आदि उपस्थित रहे।शीला कौल की बेटी पूर्व मन्त्री उत्तर प्रदेश सरकार दीपा कौल मुख्य अतिथि रहीं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दीपा कौल ने कहा कि शीला जी सौ साल की उम्र तक जीवित रहीं और अंतिम समय तक वो कांग्रेस पार्टी के लिए काम करने को तत्पर रहती थीं।

- Advertisement -

उनकी शख्सियत इतनी बड़ी थी कि एक बार अटल बिहारी वाजपेयी ने भी कहा था कि जब तक शीला कौल लखनऊ से चुनाव लड़ती रहेंगी वो वहां से नहीं लड़ेंगे। दीपा कौल ने कहा कि लखनऊ को सँवारने में शीला कौल का बड़ा योगदान था। नारायण दत्त तिवारी सरकार में मन्त्री रहीं दीपा कौल ने कहा कि कांग्रेस पिछले 136 साल से देश को जोड़ने का काम कर रही है। देश के विभिन्न वर्गों, धर्मों, जातियों, नस्लों, भाषाओं के लोगों के बीच समन्वय बनाना ही देश को एकजुट रखने की शर्त है। इस रास्ते पर बढ़ते रहना ही शीला जी को सच्ची श्रधांजलि होगी। प्रोफेशनल कांग्रेस के उत्तर प्रदेश संयोजक और सेवा निवृत आईएएस अनीस अंसारी ने अलीगढ़ विश्वविधालय के अल्पसंख्यक दर्जे को बरक़ार रखने में शीला कौल के महत्वपूर्ण योगदान पर विस्तार से बात रखी संचालन वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश महासचिव डॉ प्रदीप अरोड़ा ने की। उन्होंने कहा कि नेहरू परिवार का हिस्सा होने के बावजूद उन्होंने लखनऊ के पार्षद पद से अपनी सियासी जीवन की शुरुआत की जो उनके संघर्षशील व्यक्तित्व को रेखांकित करता है। उन्होंने शीला कौल द्वारा दूसरे देशों में भारत के प्रतिनिधि के बतौर उठाये मुद्दों पर भी रोशनी डाली। वेबिनार की अध्यक्षता अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने की। उन्होंने कहा कि शीला कौल जी का व्यक्तित्व कांग्रेसजनों को प्रेरित करता रहेगा। वेबिनार में एड. आनंद मोहन गुप्ता, उत्तराखंड के पूर्व राज्य मंत्री फुरकान अली, उत्तराखंड के पूर्व मन्त्री आबिद हुसैन, जमाल अहमद, अमरोहा से अली हुसैन नक़वी,मेरठ से डॉक्टर ओ पी शर्मा, संजय शर्मा ऐड, मुकेश शर्मा, उत्तराखंड कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, अलीगढ़ विश्वविधालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष महेंद्र रावत, कांग्रेस प्रदेश संगठन सचिव संजीव शर्मा, वसी अहमद रिज़वी, सेराज वली खान, शाद सिद्दीकी, खालिद मोहम्मद, मोहम्मद अहमद, किताबुल्ला अंसारी, अजय सारस्वत, मिथुन त्यागी, देवेंन्द्र गोएल नेता व्यापार संघ मेरठ, साइमन फारूकी, सलमान कादिर, मेराज वली खान, श्रेया चौधरी, सुधांशु उपाध्याय, हुमायूं बेग, ताहिर अंसारी आदि उपस्थित रहे।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles