आज के पंचांग Today Panchang

सौजन्य: सचिन अग्रवाल (मेरठ)
🇮🇳⛳ सुप्रभात🌞 वन्देमातरम्⛳🇮🇳
🌿🍁🔔🐚🔆 🐚🔔🍁🌿
ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः


शुक्रवार, ⓪⓼ अक्टूबर ⓶⓪⓶⓵
पूर्णिमांत माह : आश्विन
अमावस्यांत माह : आश्विन
पक्ष : शुक्ल पक्ष
तिथि : द्वितीया (१०:४७:५५)
नक्षत्र : स्वाति (१८:५८:०८)
योग : विश्कुम्भ
विक्रम सम्वत : २०७८ आनन्द
शक सम्वत : १९४३ प्लव
युगाब्द : ५१२३
आयन : दक्षिणायन
ऋतु : शरद
सूर्योदय : ०६:१६
सूर्यास्त : १७:५७
अभिजीत मुहूर्त : ११:४३ से १२:३०
राहुकाल : १०:३९ से १२:०६
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

प्रभात दर्शन-
मां ब्रह्मचारिणी उपासना 
श्री दुर्गा का द्वितीय रूप श्री ब्रह्मचारिणी हैं। यहां ब्रह्मचारिणी का तात्पर्य तपश्चारिणी है। इन्होंने भगवान शंकर को पति रूप से प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। अतः ये तपश्चारिणी और ब्रह्मचारिणी के नाम से विख्यात हैं। नवरात्रि के द्वितीय दिन इनकी पूजा औरअर्चना की जाती है। देवी दुर्गा का यह दूसरा रूप भक्तों एवं सिद्धों को अमोघ फल देने वाला है। देवी ब्रह्मचारिणी की उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। माँ ब्रह्मचारिणी की कृपा से मनुष्य को सर्वत्र सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है, तथा जीवन की अनेक समस्याओं एवं परेशानियों का नाश होता है। 
मंत्र-
या देवी सर्वभू‍तेषु माँ ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
दधाना कर पद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू।
देवी प्रसीदतु मई ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

🍁🦚 आपका दिन मंगलमय हो 🦚🙏
~~
द्वितीय नवरात्र (माँ ब्रह्मचारिणी उपासना), भारतीय वायु सेना दिवस, भारतरत्न ‘लोकनायक’ जयप्रकाश नारायण जी की पुण्यतिथि, उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद जी की पुण्यतिथि

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles