Tokyo Olympics: हार करके भी लवलीना ने रचा इतिहास, कांस्य लेकर लौटेंगी भारत

Tokyo Olympics के आज 13वें दिन भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन अपना सेमीफाइनल मुकाबला हार गयी, लेकिन इसके बाद उन्होंने इतिहास रच दिया है, क्योंकि मुक्केबाजी में मैरीकॉम के बाद दूसरा पदक हासिल करने वाली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी हैं। 69 किलोग्राम के वर्ग में उनका मुकाबला वर्ल्ड की नंबर एक खिलाड़ी तुर्की की बुसेनाज सुरमेली से था।

देखा जाये तो इस मुकाबले को लेकर लवलीना को ज्यादा अनुभव नहीं था, बस इसी का फायदा तुर्की की खिलाड़ी ने उठाया और लवलीना को हार झेलनी पड़ी। इस मुकाबले में उम्र और अनुभव का साफ अंतर नजर आ रहा था, लेकिन लवलीना के कुछ पंच ने बुसेनाज को हिलाकर रख दिया, जिन्हें आगामी भविष्य के लिये लवलीना के लिये चेताया भी।

आपको बता दें कि लवलीना असम के गोलाघाट से आती है, वहाँ उनके बॉक्सिंग करियर की शुरूआत असम के रीजनल सेंटर में चयन होने के बाद हुई थी। लवलीना के अलावा उनकी दोनों बहनें भी किक बॉक्सिंग में हाथ आजमाती है और दोनों नेशनल स्तर पर मेडल भी जीत चुकी है। लवलीना को शुरुआती दौर में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है, कभी वो अच्छी डायट के लिये जूझी है तो कभी उनके पास अच्छा ट्रैक सूट भी नहीं था।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles