UP: अब बिना मोबाइल नम्बर के पुलिस नहीं काट सकेगी चालान, लोगों को बड़ी राहत

अभी तक कई वाहन स्वामियों को चालान कटने की जानकारी नहीं मिल पाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं हो सकेगा। आज कोर्ट ने अपना बोझ कम करते हुये पुलिस के लिये एक नया आदेश पारित किया है, जिसमें कहा गया है कि अब वाहन स्वामी के सही मोबाइल नंबर और सही पते के पुलिस चालान नहीं कर पायेगी।

बताया जा रहा है कि इस फैसले की वजह लखनऊ में 3 साल के अंदर 4 लाख से ज्यादा लंबित केसों का सामने होना है, जहाँ कोर्ट अभी तक इनका निस्तारण नहीं कर पाया है। जानकारी के अनुसार इस नये आदेश में कहा गया है कि पुलिस हर महीने हजारों की संख्या में लोंगो के चालान काटती है, जिन्हें कोर्ट में भेज दिया जाता है, जिससे कोर्ट का बोझ लगातार बढ़ता ही जा रहा है। इसलिये इस नये आदेश में कहा गया है कि जिन मालिकों की सही जानकारी हो उन्हीं का चालान किया जाये।

वहीं ट्रैफिक अधिकारियों ने इसके बाबत कहा है कि ऐसा कर पाना संभव नहीं दिख रहा है, फिर भी प्रयास किये जायेंगे। बता दें अभी तक गाड़ी की RC पर लिखे ब्यौरे की मदद से ही चालान काटे जाते हैं, जिनमें कई लोंगो का पता ही नहीं मिलता है क्योंकि उन लोगों को नोटिस भेजें जाते है तो पता लगता है कि वाहन स्वामी वहाँ रह ही नहीं रहें हैं।

ऐसे में कई दिक्कतों का सामना कोर्ट को करना पड़ रहा है, जहाँ ई-चालान में वाहनों का फोटो खींचकर चालान कर दिया जाता है। इसके साथ ही कोर्ट ने ऐसे चालानों का सामना भी किया है जिनमें अपराध का प्रकार ही दर्ज नहीं होता है, वहीं इस बाबत पुलिस का कहना है कि ब्लैक फिल्म जैसे ऑफेंस इस चालान एप में नहीं है, जिससे पुलिस कर्मियों को इसे अपराध कॉलम में डालकर चालान करना पड़ता है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles