Sunday, November 27, 2022

GAYATRI PARIVAR के साथ सभी सामाजिक संगठनों ने एक स्वर में कहा छत्तीसगढ़ राज्य नशामुक्त राज्य बने

26 जून को अंतराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस के उपलक्ष्य में गायत्री परिवार के आह्वान एवं तत्वाधान में आशीर्वाद भवन रायपुर में नशा उन्मूलन पर वैचारिक गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमे प्रदेश के 20 सामजीक संगठनों के वरिष्ठ प्रमुखजन उपस्थित थे। इस वैचारिक गोष्ठी में सभी संगठनों ने छत्तीसगढ़ को नशामुक्त राज्य बनाने पर जोर दिया। भारत के संविधान और भारतीय संस्कृति के संकल्प के अनुरूप नशामुक्त समाज बनाने, पुनर्वास केंद्र स्थापित करने,संस्कारवान बनाने,संस्कृति व परम्परा व व्यवहार से नशा को दूर रखना आदि पर विचार व्यक्त किया गया। सभी ने राजधानी स्तर पर सर्व समाज/संगठन का एक ग्रुप बनाने का विचर किया। जिसका उद्देश्य राजधानी को संस्कारधानी व नधमुक्त बनाना होगा। गोष्ठी के उपरांत गायत्री परिवार द्वारा एवं अन्य सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर छत्तीसगढ़ को नशामुक्त प्रदेश बनाने के लिए शासन को ज्ञापन सौंपा गया। इस वैचारिक गोष्ठी में गायत्री परिवार से दिलीप पाणिग्रही,सी पी साहू,आर.एस.एस. से डॉ पूर्णेन्दु सक्सेना,सिक्ख समाज से दलवीर सिंह ढिल्लन,ईसाई समाज से सब्स्टीन फादर, बसंतकुमार तिर्की,निषाद समाज से आनन्द निषाद,देवांगन समाज से पुरुषोत्तम देवांगन,सुखदेव देवांगन,गोरेलाल जी,तेलगु समाज से के सत्याबाबू,साहू समाज से मेघराज साहू, सेन समाज से डॉ मनोज ठाकुर,कुनबी समाज से दानेश्वर रावत,पतंजलि योग समिति से छबिराम साहू,यादव समाज से माधव यादव,गुजराती समाज से प्रकाश दावड़ा,ब्राह्मण समाज से प्रभात मिश्रा,निश्चल वाजपेयी,मराठा समाज से मोहन पवार,करुणा इंटरनेशनल से प्रेमशंकर गौटिया,कुर्मी समाज से नकुल वर्मा,सतनाम समाज से सी एल सोनवानी एवं गायत्री परिवार के परिजन उपस्थिति रहे। कार्यक्रम का संचालन गायत्री परिवार के जिला समन्वयक लच्छुराम निषाद ने किया।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles